Stigmatizing Capitalism is a problem in India

In the preface to the Economic Survey of India, 2017-2018, Chief Economic Adviser to the Government of India, Arvind Subramanian writes, “The Survey strives to combine rigour with readability, a challenge that increases in the same proportion as attention spans shrink (from absorbing op-eds to scrolling down tweets). The Survey’s aim is always to build a portfolio of contributions, combining description, new data creation, deep-dive research, and provocative policy ideation.”

Continue reading “Stigmatizing Capitalism is a problem in India”

जो पुल बनाएंगे | Agyeya

कवि होते हैं। उनकी कृतियाँ होतीं हैं। कई कवियों की कृतियाँ कालजयी होती हैं। पर क्या ऐसा होता है कि किसी कवि की सभी कृतियाँ कालजयी होतीं होंं? नहीं। कई गणमान्य, सर्वसम्मानित कवियों ने भी बहुत सारी साधारण कृतियाँ रची हैं। कालजयी कृति की छाया में उनकी साधारण कृतियाँ भी अनमोल लगने लगतीं हैं।

Continue reading “जो पुल बनाएंगे | Agyeya”