वैलेंटाइन’स डे, अम्मा, और हमारा प्यार।

फिल्म डॉन में अमिताभ बच्चन ने दो भूमिकाएँ निभायी हैं। उनमें से पहला किरदार नकारात्मक है। डॉन एक बहुत खतरनाक अपराधी है और उसके ही शब्दों में ११ मुल्कों की पुलिस उसका पीछा कर रहीं होतीं हैं। फिल्म शोले में जय और वीरू टुच्चे चोर हैं। फिल्म डर में शाहरुख़ खान ने एक बेहद संगीन और जुनूनी आशिक़ का किरदार निभाया है। फिल्म स्पेशल छब्बीस में अक्षय कुमार ने एक ठग का किरदार निभाया।

ये सब मैं आपको क्यूँ बता रहा हूँ? इस से पहले कि मैं उसका जवाब दूँ, मैं एक बात और बता देता हूँ। अभिनेता प्राण शायद अब तक के सबसे हरफनमौला कलाकार रहे हैं। कहा जाता है कि उनके नकारात्मक किरदारों को इतनी नफरत मिली कि एक वक़्त पर दर्शकों को यकीन हो गया कि प्राण निजी ज़िन्दगी में भी वही हाथ में चाबुक लेकर घूमने वाले पूंजीवादी हैवान हैं जो गरीब किसानों का खून पीता है। लोगों ने अपने बच्चों का नाम प्राण रखना बंद कर दिया। Continue reading “वैलेंटाइन’स डे, अम्मा, और हमारा प्यार।”

She had that effect on me…

I was put in charge of hospitality committee and while preparing, since filtered water was available only in the teacher’s common room, had to drink untreated water many a times. This had distorted the texture and pitch of my voice temporarily. I love my voice, both literally and idiomatically. So it was a major setback. The croaky voice was intelligible only to me. Two days after the event was over, I was going to my classroom via the library corridor. She was walking towards the library and I was walking towards her. She waved her hand and helloed. I mumbled something that I don’t remember now. She asked me if I had drunk raw water from the supply taps. I had a silly smile on my face while nodding affirmatively. She smiled. That was magic, a surreal encounter of charm and power of beauty.

Continue reading “She had that effect on me…”